बिहार चुनाव : बहू-बेटियों पर राजनीतिक विरासत आगे ले जाने की जिम्मेदारी

Loading...
Mints of India Google News

बहू-बेटियों पर भी है इस चुनाव में घर की विरासत को आगे ले जाने का

बिहार में सियासी घमासान जोरों पर है. इस बार बिहार के कई धुरंधर चुनावी मैदान में नहीं है. उनकी जगह बेटों के साथ-साथ बहू और बेटियों ने संभाली है. चुनाव में कई ऐसी बेटियां चुनावी समर में कूद चुकी हैं जो अपने पिता या ससुर की विरासत को आगे ले जाने को तैयार है. इनमें से तो कुछ राजनीति में बिल्कुल नई हैं तो कुछ के पास राजनीति करने का पहले से अनुभव है. कोई बेटी एमबीए करके मल्टीनेशनल कंपनी में काम करती थी तो किसी ने लंदन से पढ़ाई की है.


पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व. दिग्विजय सिंह की बेटी श्रेयसी सिंह जमुई से, विनोद चौधरी के बेटी पुष्‍पम प्रिया चौधरी बिस्‍फी से, राजद नेता जयप्रकाश यादव की बेटी दिव्या प्रकाश तारापुर, पूर्व सांसद कमला मिश्र मधुकर की बेटी शालिनी मिश्रा केसरिया सीट से चुनाव लड़ रही हैं. तो वहीं बाबूबरही से मंत्री कपिलदेव कामत की बहू मीणा कामत, कटोरिया से सोनेलाल हेम्ब्रम की बहू निक्की हेम्ब्रम, तो हिसुआ से पूर्व मंत्री आदित्य सिंह की बहू नीतू सिंह चुनाव मैदान में हैं.

आइए जानते हैं कौन हैं ये बहू- बेटियां :


पुष्‍पम प्रिया चौधरी :

सोशल मीडिया पर बिहार की एक बेटी छाई हुई है. वह चुनाव से जुड़े अपने हर गतिविधि को अपडेट कर रही है. जी हां, हम बात कर रहे हैं जदयू के वरिष्‍ठ नेता एवं पूर्व एमएलसी विनोद चौधरी के बेटी पुष्‍पम प्रिया चौधरी की. चुनावी मैदान में कूदने से पहले उन्होंने अपनी नई प्‍लूरल्‍स पार्टी बनाई है. उनकी पढ़ाई लंदन से हुई है. वह खुद मधुबनी जिले के बिस्‍फी विधानसभा से चुनाव लड़ेंगी.

शालिनी मिश्राः

पूर्व सांसद कमला मिश्र मधुकर की बेटी शालिनी मिश्रा भी इस बार चुनाव लड़ रही हैं. शालिनी ने एमबीए करने के बाद कई मल्टीनेशनल कंपन‍ियों में काम किया है. अब जदयू के टिकट पर चुनाव लड़ रही हैं.

श्रेयसी सिंहः

बिहार के चर्चित दिग्विजय सिंह की शूटर बेटी श्रेयशी सिंह को इस बार भाजपा ने चुनावी समर में उतारा है. श्रेयसी को अर्जुन पुरस्‍कार भी मिल चुका है. श्रेयसी का बैकग्राउड राजनीति वाला रहा है. पिता के अलावा उनकी मां पुतुल देवी सांसद रह चुकी हैं.


दिव्‍या प्रकाशः

राजद नेता एवं पूर्व मंत्री जय प्रकाश नारायण की बेटी दिव्‍या प्रकाश पहली बार चुनाव लड़ रही है. उन्होंने पिता की पार्टी को ही चुना है.

मीना कामतः

जदयू नेता कपिलदेव कामत इस बार खुद चुनाव नहीं लड़ रहे हैं. उनकी विरासत संभालने के लिए उनकी छोटी बहु मीना कामत चुनावी समर में कूद चुकी हैं. इससे पहले वह जिला पंचायत सदस्‍य रह चुकी हैं.

नीतू सिंहः

बिहार के पूर्व पशुपालन राज्‍यमंत्री आदित्‍य सिंह की बहू नीतू सिंह इस बार हिसुआ विधानसभा सीट पर चुनाव लड़ेंगी. वह अपने ससुर और पति शेखर उर्फ पप्‍पू सिंह के राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ाएंगी.

Source – Live Hindustan