विपक्षी महागठबंधन में सीट बंटवारे का ऐलान, तेजस्वी होंगे मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार

Tejashwi Yadav
Loading...
Mints of India Google News

तीन अक्टूबर (भाषा) बिहार विधानसभा चुनाव के लिये विपक्षी महागठबंधन में सीटों के बंटवारे के ऐलान के साथ ही दरार पड़ गई और विकासशील इंसान पार्टी के अध्यक्ष मुकेश सहनी ने अपने दल की सीटों की संख्या घोषित नहीं किये जाने को लेकर महागठबंधन छोड़ने की घोषणा कर दी। मुकेश सहनी ने राजद पर अति पिछड़ों की पीठ में खंजर घोंपने का आरोप लगाते हुए कहा कि अति पिछड़ा समाज से होने के कारण राजद ने उन्हें धोखा दिया और इस वर्ग के लोग चुनाव में इसका जवाब देंगे।


विकासशील इंसान पार्टी के नेता मुकेश सहनी ने 25 सीटों की मांग करते हुए संवाददाता सम्मेलन का बहिष्कार कर दिया और मंच को छोड़ कर बाहर आ गए । दरअसल, शनिवार की शाम पटना में बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के लिए महागठबंधन में सीटों के बंटवारे के बारे में ऐलान हुआ। इस दौरान तेजस्वी यादव ने बताया कि कांग्रेस 70 सीटों पर, राजद 144 सीटों पर और वाम पार्टियां 29 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि राजद के कोटे की सीटों में से विकासशील इंसान पार्टी और झारखंड मुक्ति मोर्चा को सीटें दी जाएंगी। संवाददाता सम्मेलन में अपनी पार्टी के लिए सीटों का ऐलान नहीं होने से मुकेश सहनी नाराज हो गये ।

वहीं, वीआईपी पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि सहनी कल संवाददाताओं को संबोधित करेंगे । बाद में वीआईपी के सूत्रों ने कहा कि पार्टी अन्य विकल्पों जैसे पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी प्रमुख तथा चंद्रशेखर रावण की भीमा आर्मी के मोर्चे में शामिल होने पर विचार कर रही है। साथ ही यह अटकलें भी लगाई जा रही हैं कि महागठबंधन से नाता तोड़कर बसपा से हाथ मिलने वाली उपेन्द्र कुशवाहा की राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) पप्पू यादव के मोर्चे में शामिल हो सकती है। बिहार में तीन चरणों चुनाव होगा। पहले चरण के लिये 28 अक्टूबर, दूसरे चरण के लिये तीन नवंबर और तीसरे चरण के लिये सात नवंबर को मतदान होगा।


मतगणना 10 नवंबर को होगी इससे पहले, विधानसभा चुनाव के लिये विपक्षी महागठबंधन के घटक दलों ने तेजस्वी यादव को गठबंधन के चेहरे के रूप में समर्थन दिया । कांग्रेस को 70 सीटें दी गई हैं जो 2015 के विधानसभा चुनाव में उसे मिली सीटों से करीब दोगुनी है। साल 2015 में राजद, कांग्रेस और जदयू ने मिलकर चुनाव लड़ा था । पिछले चुनाव में राजद ने 81 सीटें जीती थीं जबकि कांग्रेस ने 27 सीटों पर जीत हासिल की थी। सीटों के बंटवारे के फार्मूले के तहत कांग्रेस बाल्मीकिनगर लोकसभा सीट के लिये होने वाले उपचुनाव में उम्मीदवार खड़ा करेगी जहां 7 नवंबर को चुनाव होना है। फार्मूले के तहत माकपा को छह, भाकपा को चार और सीपीआई एमएल को 19 सीटें दी गई हैं । इससे पहले, तेजस्वी यादव ने कहा कि यह संघर्ष जनता बनाम डबल इंजन की सरकार के बीच है.

और प्रदेश के लोग जनादेश का अपमान करने वालों को सबक सिखायेंगे । उन्होंने कहा, ‘‘ हम प्रदेश की तरक्की और लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करेंगे । हम 10 लाख लोगों को नौकरी देंगे । ’’ यादव ने कहा, ‘‘ हम ठेठ बिहारी हैं और जो वादा करेंगे उसे पूरा करेंगे । हम प्रदेश की जनता से आग्रह करते हैं कि हमें एक मौका दें, हम उनकी उम्मीदों पर खरा उतरेंगे । ’’ राजद नेता ने आरोप लगाया कि नीतीश कुमार ने पिछला चुनाव भाजपा और नरेंद्र मोदी के खिलाफ लड़ा था.


लेकिन जनादेश को धोखा देकर फिर उन्हीं के साथ चले गए । उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश में विकास नहीं हो रहा है और कानून एवं व्यवस्था की स्थिति खराब है। तेजस्वी यादव ने आरोप लगाया कि जदयू नीत सरकार 15 साल में लोगों को रोजगार नहीं दे पाई और लॉकडाउन में बेरोजगारों और लाचारों का अपमान किया गया । इस दौरान कांग्रेस नेता अविनाश पांडे ने कहा कि भले ही हमारे बीच कुछ मतभेद हैं लेकिन प्रदेश की तरक्की, लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता के लिये हम सभी दल एकजुट हैं।

Mints of India an Indian E-Media Website. Here We Provide Latest Breaking News Related to Political News in Hindi with All Types of News.