सीएम नीतीश कुमार भड़के: कहा - शराबबंदी पर सब मेरे खिलाफ, "पियोगे तो मरोगे"

  
तेजस्वी यादव: क्राइम कैपिटल ऑफ इंडिया बन रहा है बिहार, CM नीतीश लाचार
फेसबुक पर ताजा खबरे पाने के लिए लाइक बटन दबाये!

बिहार न्यूज़ डेस्क: खबर आ रही है बिहार से, जा एक बार फिर बिहार के सीएम श्री नीतीश कुमार विपक्षी दलों पर भरत चुके हैं. जैसे कि आपको पता ही होगा कि बिहार में शराबबंदी के बावजूद जहरीली शराब से हो रही मौतों को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लगातार गिरते आ रहे हैं. और ऐसे में सोमवार को नीतीश कुमार ने राजनीतिक दलों और अपनी भड़ास निकालते हुए कहा कि शराबबंदी पर कुछ लोग मेरे खिलाफ हो गए हैं.

और साथ ही यह भी कहा कि राजनीतिक दलों को यह भी कहना चाहिए कि "शराब पियोगे तो मरोगे" और यह बात प्रचारित भी करनी चाहिए. मैं पिछले हफ्ते बिहार के जिला गोपालगंज में जहरीली शराब पीने से करीब 40 लोगों की मौत हो गई थी. जो कि बिहार में चर्चा का विषय बना हुआ था. इसके बाद से ही नीतीश कुमार को लगातार अलग अलग राज्य खेला जा रहा है. प्रदेश कानपुर विरोधियों के अलावा उनकी सहयोगी विपक्षी ने भी गिरते हुए शराब बंदी कानून पर पुनर्विचार करने की मांग कर डाली.

साथ ही राजनीतिक पार्टियों की ओर से लगातार गिरते हुए नीतीश कुमार ने एक बार फिर भागते हुए कहा कि शराबबंदी सभी दलों की सर्वसम्मति से लागू किया गया था. लेकिन अब कुछ लोग मेरे खिलाफ हो गए हैं, उन्होंने कहा कि राजनीतिक दलों को "शराब पियोगे तो मरोगे " वाली बात प्रचारित करनी चाहिए.

साथ ही नीतीश कुमार ने यह भी कहा है कि शराब पर गंदी चीज है यह लोग को समझ नहीं चाहिए. उन्होंने कहा कि शराबबंदी पर फिर से व्यापक जागरूकता लाने की जरूरत है. और इसके लिए वह हमेशा से ही आगे रहेंगे. वहीं खबर यह भी है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को एक बड़ी बैठक बुलाई है. इस बैठक में शराबबंदी कानून की समीक्षा की जाएगी.

इसके साथ ही जरूरी शराब पीने से जो भी मौतें हुई है उन घटनाओं पर भी चर्चा की जाएगी. इस बैठक में बिहार सरकार के सभी मंत्री शामिल होंगे. साथ ही सभी जिलों के डीएम और एसपी भी इस बैठक में हिस्सा ले सकते हैं.

From Around the web