पटना का PMCH बनेगा भारत का सबसे बड़ा अस्पताल: होगी वर्ल्ड क्लास सुविधाए, जाने

 
pmch patna hospital

बिहार न्यूज़ डेस्क: खबर आ रही है बिहार की रजधानी पटना से, जहाँ बिहार और पटना के प्रसिद्द PMCH Hospital को सम्पूर्ण High-Tech बनाने की प्रक्रिया में जुड़ चूका है. और खबरों की माने तो पटना के इस पीएमसीएच के लिए 5540 करोड़ का बजट बनाया जाएगा.

और इसके पश्चात् पटना का यह पीएमसीएच हॉस्पिटल दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा और भारत का सबसे बड़ा हॉस्पिटल बन जाएगा.  वही बताया यह भी जा रहा है की पीएमसीएच हॉस्पिटल में आने वाले समय में तकरीबन 5462 हाई-टेक बेड्स की व्यवस्था उपलब्ध होगी.

पढ़े - बिहार में दो सीटों के उपचुनाव में JDU और RJD का सीधा टक्कर: क्या तीर लालटेन को बुझा पायेगी?

और सूत्रों की माने तो ताईवान देश के एक हॉस्पिटल (चांग अंग मेमोरियल अस्पताल) जो की दुनिया का सबसे बड़ा हॉस्पिटल है. तो इस हॉस्पिटल के बाद पटना का PMCH दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा हॉस्पिटल बिहार की राजधानी पटना में बनेगा.

भारत के सबसे बड़ा हॉस्पिटल PMCH में क्या होगी हाईटेक सुविधाए?

खबरों की माने तो पटना में बनने वाले भारत के सबसे बड़े हॉस्पिटल PMCH का 2024 तक बाने वाले प्रथम चरण का अस्पताल को 7 मंजिला बनाया जाएगा. और प्रथम चरण में इस हॉस्पिटल में 2073 बेड्स की सुविधा उपलब्ध होगी. वही इसके दुसरे चरण में बनने वाले अस्पताल में एक छत के निचे ही हमे मेडिकल कॉलेज, नर्सिंग हॉस्टल, डॉक्टर चैंबर, क्लास रूम, सभी जांच और पैथोलॉजी सुविधाएं, एक्स-रे, अल्ट्रासाउंड से लेकर एमआरआई, ब्लड बैंक आदि की सुविधाए देखने को मिलेगी.

पढ़े - बिहार में वायरल फीवर से मचा कोहराम: कही हॉस्पिटल में बेड फुल तो कही बच्चो की मौत

वही पटना के इस PMCH की बात करे तो आने वाले समय में PMCH के इस नई बिल्डिंग में कुल 36 सुपर स्पेशलिटी हाईटेक भवनों का निर्माण भी किया जाएगा. और वही आपके जानकारी के लिए बता दूं की वर्तमान में इनकी संख्या सिर्फ 8 ही है.

वही हमे प्राप्त समाचार के अनुसार इन भवनों के निर्माण के बाद इन सभी भवनों को ऑटोमेटिक फायर फाइटिंग सिस्टम, मेडिकल गैस पाइपलाइन, पावर सब स्टेशन, अंडरग्राउंड सीवरेज प्रणाली, कचरा निष्पादन प्रणाली से युक्त किया जएगा. क्योकि ये पूरी तरह से हाईटेक हॉस्पिटल होने वाला है. वही खबरों के अनुसार पटना के इस PMCH का प्रथम चरण का निर्माण 2024 तक हो जाएगा. और प्रथम चरण के समाप्त होने के बाद यहाँ किडनी प्रत्यारोपण का कार्य भी शुरू हो जाएगा.

From Around the web