बिहार के एक गांव में Wi-Fi व CCTV तथा चकाचक सड़कें! सच्चाई कैमूर की इस पंचायत की

BIHAR DESK : बिहार के कैमूर जिले की नरहन जमुरना पंचायत की तस्वीर बदलते गांव की तस्वीर है. यहां की व्यवस्था ऐसी है कि शहरवासी भी लालायित हो जाएं. अच्छी और साफ-सुथरी सड़कें, लाइट, वाइफाइ, फ्री एंबुलेंस. एक तरह से शहर की तरह हर बुनियादी सुविधाएं यहां उपलब्ध हैं. इसमें यहां के मुखिया डॉ. संजय
 
बिहार के एक गांव में Wi-Fi व CCTV तथा चकाचक सड़कें! सच्चाई कैमूर की इस पंचायत की

BIHAR DESK : बिहार के कैमूर जिले की नरहन जमुरना पंचायत की तस्‍वीर बदलते गांव की तस्‍वीर है. यहां की व्‍यवस्‍था ऐसी है कि शहरवासी भी लालायित हो जाएं. अच्‍छी और साफ-सुथरी सड़कें, लाइट, वाइफाइ, फ्री एंबुलेंस. एक तरह से शहर की तरह हर बुनियादी सुविधाएं यहां उपलब्‍ध हैं. इसमें यहां के मुखिया डॉ. संजय सिंह ने अहम भूमिका निभाई. सांसद-विधायक के पांच वर्ष की निधि के बराबर यहां पैसे खर्च कर विकास के कार्य किए गए हैं. करीब तीन करोड़ 20 लाख रुपये यहां खर्च किए गए हैं.

सीसीटीवी कैमरे से होती है निगरानी

बिहार के एक गांव में Wi-Fi व CCTV तथा चकाचक सड़कें! सच्चाई कैमूर की इस पंचायत की

इस पंचायत में बाहर से आने जाने वाले हर तरह के लोगों की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए सभी गलियों के साथ मुख्य मार्ग में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं.

सीसीटीवी कैमरा लगने के बाद गांवों में चोरी जैसी घटनाओं पर तो पूर्ण रूप से विराम लग गया है. क्योंकि जब से सीसीटीवी कैमरा लगा है तब से चोरी की घटना सुनने को नहीं मिल रही है.

पंचायत में वाइफाइ की सुविधा

बेरोजगार लोगों को निश्‍शुल्क नेटवर्किंग व्यवस्था उपलब्ध कराने के लिए पंचायत मुख्यालय को वाइफाइ से लैस किया गया है. साथ ही मलेरिया मुक्त पंचायत बनाने के लिए फाॅगिंग मशीन भी यहां उपलब्ध है. जिससे समय-समय पर छिड़काव किया जाता है.

एंबुलेंस से स्वास्थ्य व्यवस्था को दुरुस्त करने की पहल

मुखिया ने अपने प्रयास से आक्सीजनयुक्त एंबुलेंस उपलब्ध कराया है ताकि यहां के लोगों को मरीज को ले जाने में कोई परेशानी न हो और उन्हें ससमय अस्पताल पहुंचाया जा सके. अभी कैमूर जिले की किसी पंचायत में ऐसा नहीं हुआ है.

आरओ प्लांट से मिलता है शुद्ध जल, नल-जल योजना भी पूर्ण

वर्ष 2017 में इस पंचायत में आरओ प्लांट लगाया गया. बीपीएल वाले परिवार को दो रुपये तथा एपीएल वाले परिवार को पांच रुपये में 20 लीटर का जार उपलब्ध होता है. शादी विवाह में भी उन्हें इसी दर पर बड़े गैलन में ट्राली के सहारे पानी पहुंचाया जाता है.

From Around the web