अगले साल से बिहार के सरकारी स्कूलों में भी होगी नर्सरी की पढ़ाई! तयारी शुरू

Loading...

ताजा खबर पाने के लिए निचे लाइक बटन दबाये

BIHAR DESK: प्रदेश के सरकारी स्कूलों में भी अब प्राइवेट स्कूलों की तरह नर्सरी कक्षाएं संचालित होंगी. तीन साल से पांच साल तक की उम्र के इन नर्सरी क्लास के बच्चों को पढ़ाने के लिए शिक्षा विभाग ने सिलेबस बनाने की तैयारी शुरू कर दी है.

ऐसे बच्चों को पढ़ाने के लिए शिक्षकों विशेषकर महिला शिक्षकों को खासतौर पर ट्रेंड करने पर विचार चल रहा है. इस बात पर सैद्धांतिक सहमति बन गयी है कि नर्सरी कक्षाओं के संचालन के लिए आंगनबाड़ी केंद्रों से बच्चे लिये जायेंगे.

nursery school

पूर्व प्राथमिक कक्षाओं में सीधे नामांकन भी हो सकेगा. फिलहाल अपर मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई हालिया बैठक में इस संदर्भ में मैपिंग करने का निर्णय लिया गया है. मैपिंग के जरिये देखा जायेगा कि कितनी आंगनबाड़ी स्कूलों में संचालित हैं? कितनी ऐसी हैं, जो निजी या घरों में चल रही हैं.

पूर्व प्राथमिक कक्षाओं में सीधे नामांकन भी हो सकेगा. फिलहाल अपर मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई हालिया बैठक में इस संदर्भ में मैपिंग करने का निर्णय लिया गया है. मैपिंग के जरिये देखा जायेगा कि कितनी आंगनबाड़ी स्कूलों में संचालित हैं? कितनी ऐसी हैं, जो निजी या घरों में चल रही हैं.

स्कूल से कितनी दूर हैं? तब जाकर उनके बच्चों को स्कूलों में अटैच करने का निर्णय लिया जायेगा. हालांकि यह कवायद किस ढंग से पूरी की जाये, इस संदर्भ में शिक्षा और समाज कल्याण विभाग को तकनीकी तौर पर निर्णय लेना है.

दरअसल आंगनबाड़ी को तकनीकी तौर पर एक साथ मर्ज करने में दिक्कत यह आ रही है कि आंगनबाड़ी केंद्र छह विशेष मकसद से संचालित हैं, जिनमें एक पढ़ाई है. शेष पांच कार्य शिक्षा से एकदम परे हैं. इसलिए स्कूलों में पूरी तरह मर्ज करने में दिक्कत आ सकती है.

Loading...

Mints of India an Indian E-Media Website. Here We Provide Latest Breaking News Related to Political News in Hindi with All Types of News.
x