पेट्रोल सस्ता होने के बावजूद राजस्थान में 116.34 रुपए, जानें आपके शहर में आज के रेट

  
बिहार के सभी जिलों में सौ के पार पहुंचे पेट्रोल के दाम! जानें आपके जिले में क्या है कीमत
फेसबुक पर ताजा खबरे पाने के लिए लाइक बटन दबाये!

हिंदी न्यूज़ डेस्क: जैसा कि आपको पता है कि कुछ दिनों पहले ही केंद्र सरकार द्वारा भारत में पेट्रोल और डीजल के दामों में कटौती की गई है. जहां पेट्रोल में ₹5 और डीजल में ₹10 VAT को घटाया गया है. केंद्र सरकार के ऐलान के कुछ देर बाद ही बीजेपी और एनडीए शासित राज्यों में राज्यों की तरफ से भी VAT में भारी कटौती की गई है. जिसके बाद तो देश के कई राज्यों में पेट्रोल के दाम ₹100 से भी नीचे आ गए हैं.

परंतु बात करते हैं राजस्थान की जहां कांग्रेस की सरकार है. बीते बुधवार को डीजल के दाम में ₹11 से ₹3 तो ही पेट्रोल के दाम में ₹7 से लेकर ₹8 तक घटे. इसके बावजूद भी राजस्थान के श्रीगंगानगर में सबसे बड़ा पेट्रोल ₹116 34 पैसे लीटर बिक रहा है. जबकि यहां डीजल अभी भी ₹100 के पार है.

पढ़े - इंडिया ने नामीबिया को 9 विकेट से हराया! रोहित-राहुल ने खेली शानदार पारी, देखे मैच हाइलाइट्स

राजस्थान में कितना पेट्रोल महंगा क्यों बिक रहा है? तो आपको बता दूं कि राजस्थान में पेट्रोल पर सबसे अधिक ₹30 51 पैसे प्रति लीटर VAT लिया जाता है. इसके बावजूद महाराष्ट्र में ₹29 99 पैसे और आंध्र प्रदेश में ₹29 दो पैसे, मध्यप्रदेश में ₹26 87 पैसे प्रति लीटर पर VAT लिया जाता है. आपको बता दें कि कांग्रेस शासित राज्यों ने पंजाब को छोड़कर बाकी किसी राज्य में ज्यादा व्यस्त नहीं घटाया है. कारण राजस्थान सहित बाकी दूसरे कांग्रेस शासित राज्यों में भी अब तक काफी महंगे डीजल और पेट्रोल बिक रहे हैं.

शहर पेट्रोल (रुपये/लीटर)

डीज़ल (रुपये/लीटर)

श्रीगंगानगर 116.34 100.53
पोर्ट ब्लेयर 82.96 77.13
दिल्ली 103.97 86.67
मुंबई 109.98 94.14
चेन्नई 101.40 91.43
कोलकाता 104.68 89.79
भोपाल 107.23 90.87
रांची 98.52 91.56
बेंगलुरु 100.58 85.01
पटना 105.90 91.09
चंडीगढ़ 94.98 83.89
लखनऊ 95.28 86.80
नोएडा 95.51 87.01
जयपुर 111.10 95.71

स्रोत: IOC

बता दें मोदी सरकार ने पिछले सप्ताह पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क में 5 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 10 रुपये प्रति लीटर की कटौती की थी, ताकि ईंधन की रिकॉर्ड-उच्च कीमतों से परेशान उपभोक्ताओं को राहत मिल सके. वहीं,   केंद्र सरकार की घोषणा के बाद 24 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने अलग-अलग अनुपात में वैट दरों में कटौती करते हुए लोगों को और राहत दी है.

जिन राज्यों ने अब तक वैट कम नहीं किया है उनमें कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों द्वारा शासित राजस्थान, पंजाब, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, झारखंड और तमिलनाडु शामिल हैं. इनमें आप शासित दिल्ली, तृणमूल कांग्रेस शासित पश्चिम बंगाल, वाम दल शासित केरल, टीआरएस शासित तेलंगाना और वाईएसआर कांग्रेस शासित आंध्र प्रदेश भी शामिल हैं.

From Around the web