मणिपुर में आतंकी हमला, कई जवान शहीद! पीएम मोदी ने जताया शोक कहा- कभी भुलाया नहीं जा सकता बलिदान

  
pm modi condemns manipur terrorist attack
फेसबुक पर ताजा खबरे पाने के लिए लाइक बटन दबाये!
 

Hindi News Desk: मणिपुर के चुराचांदपुर जिले में शनिवार को असम राइफल्स के काफिले पर घात लगाकर हमला किया गया. उग्रवादी हमले में सीओ समेत असम राइफल्स के पांच जवान शहीद हो गए. इस हमले में उनके परिवार के दो सदस्यों की भी मौत हो गई. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और मणिपुर के मुख्यमंत्री ने हमले की निंदा की है. 46 असम राइफल्स के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल विप्लव त्रिपाठी के काफिले पर उग्रवादियों ने सिंघाट सब-डिवीजन में हमला किया.


जब हमला हुआ तब अधिकारी अपने परिवार के सदस्यों और क्विक एक्शन टीम के साथ यात्रा करे थे. अलग 'होमलैंड' की मांग करने वाले मणिपुर के उग्रवादी संगठन 'पीपुल्स रेवोल्यूशनरी पार्टी ऑफ कंगलीपक' (PREPAK) को इस हमले का जिम्मेदार माना जा रहा है. इस हमले में 'आईईडी' विस्फोटकों का इस्तेमाल किया गया. असम राइफल्स की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया, 'उग्रवादियों (संदिग्ध पीआरईपीएके/पीएलए) के हमले में कमांडिंग अफसर और त्वरित प्रतिक्रिया दल (क्यूआरटी) के तीन कर्मियों की मौके पर ही जान चली गई.

कमांडिंग अफसर के परिवार (पत्नी और छह वर्षीय बेटे) की भी मौत हो गई. अन्य घायल कर्मियों को बहियंगा स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती किया गया है.'असम राइफल्स की ओर से जारी बयान में कहा गया कि इस हमले के पीछे पीआरईपीएके समूह के होने का शक है क्योंकि 12/13 नवंबर को इस संगठन का स्मरण दिवस है.


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को असम राइफल्स के काफिले पर हुए आतंकवादी हमले की निंदा की और कहा कि उनके बलिदान को भुलाया नहीं जा सकेगा. मणिपुर में आज सुबह उग्रवादियों के एक विस्फोट में असम राइफल्स के कर्नल और 4 जवान शहीद हो गए. इस हमले में कर्नल की पत्नी और बेटे की भी मौत हो गई. घटना आज सुबह 10 बजे से 11 बजे के बीच हुई है. असम राइफल्स की खुगा बटालियन के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल विप्लव त्रिपाठी, उनकी पत्नी और बेटे के अलावा अर्धसैनिक बल के चार जवान शनिवार सुबह मणिपुर में घात लगाकर किए गए हमले में मारे गए. 

इस घटना पर पीएम मोदी ने ट्वीट करके दुख जाहिर किया. उन्होंने लिखा, "मणिपुर में असम राइफल्स के काफिले पर हमले की कड़ी निंदा करता हूं. मैं उन सैनिकों और परिवार के सदस्यों को श्रद्धांजलि देता हूं जो आज शहीद हुए हैं. उनके बलिदान को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा. दुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं."

From Around the web