प्रदोष व्रत आज, जान लें बुध प्रदोष व्रत की शुभ मुहूर्त व व्रत नियम

Shiv

ताजा खबर पाने के लिए निचे लाइक बटन दबाये

Religious Desk : प्रदोष व्रत 10 मार्च (बुधवार) को है. बुधवार के दिन पड़ने वाले प्रदोष व्रत को बुध प्रदोष व्रत कहते हैं. इस दिन भगवान शंकर की विधि-विधान से पूजा की जाती है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, प्रदोष व्रत के दिन विधि-विधान से भगवान शिव की पूजा और व्रत रखने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. संकटों से मुक्ति मिलती है. जीवन में सुख, शांति और समृद्धि आती है.

प्रदोष व्रत के दिन बन रहे ये योग

  • परिघ – दोपहर 12 बजकर 09 मिनट से 10 मार्च की सुबह 10 बजकर 36 मिनट तक.
  • शिव योग – 10 मार्च को सुबह 10 बजकर 36 मिनट से 11 मार्च की सुबह 09 बजकर 24 मिनट तक.

Also ReadManoj Bajpayee का Silence Trailer हुआ रिलीज़! दिखेंगे मर्डर केस सुझाते हुए

प्रदोष व्रत शुभ मुहूर्त

  • प्रदोष व्रत तिथि – 10 मार्च 2021(बुधवार)
  • फाल्गुन कृष्ण त्रयोदशी प्रारम्भ – 10 मार्च 2021 बुधवार को दोपहर 02 बजकर 40 मिनट से
  • त्रयोदशी तिथि समाप्त – 11 मार्च 2021 गुरुवार को 02 बजकर 39 मिनट तक.

प्रदोष में क्या नहीं करना चाहिए?

प्रदोष काल में भगवान शिव की पूजा करने के बाद ही भोजन ग्रहण करना चाहिए. प्रदोष व्रत में अन्न, नमक, मिर्च आदि का सेवन नहीं करना चाहिए. व्रत के समय एक बार ही फलाहार ग्रहण करना चाहिए.

Shiv

प्रदोष व्रत की पूजा विधि

  1. स्नान आदि के बाद भगवान शिव का अभिषेक करें.
  2. पंचामृत का पूजा में इस्तेमाल करना चाहिए.
  3. भगवान शिव की धूप व दीपक से आरती करें.
  4. महादेव को भोग लगाएं.
  5. प्रदोष व्रत का संकल्प लें.
  6. प्रदोष व्रत के दिन व्रत व नियमों का पूरे दिन पालन करें.
  7. शाम को महादेव की पूजा करने के बाद आरती उतारें.
  8. अगले दिन व्रत का पारण करें.

Mints of India an Indian E-Media Website. Here We Provide Latest Breaking News Related to Political News in Hindi with All Types of News.
x