बिहार के इस गांव में 87 साल के बाद पहुंची ट्रेन तो लोगों ने की पूजा, इंजन देखने जुट गई भीड़

First train in bihars village

ताजा खबर पाने के लिए निचे लाइक बटन दबाये

BIHAR DESK : सरायगढ़-निर्मली रेलखंड पर आसनपुर-कुपहा से निर्मली तक बड़ी रेल लाइन का निर्माण कार्य पूरा होते ही शनिवार को रेलवे द्वारा ट्रेन का स्पीड ट्रायल कराया गया। इस कड़ी में राधोपुर से निर्मली के बीच भी स्पीड टेस्ट के लिए ट्रेन का परिचालन किया गया। ट्रेन की सिटी सुनते ही लोग ‘मोदी है तो मुमकिन है’ के नारे लगाने लगे। रेलवे अधिकारियों की मानें तो स्पीड ट्रायल सफल रहने के बाद सीआरएस की मंजूरी हो सकती है। ऐसे में 87 वर्षों के बाद निर्मली नगरवासियों का सपना साकार होता दिख रहा है। यही वजह है कि इंजन के सामने आज यहां पूजा-अर्चना की गई।

इसे भी पढ़े : इसरो ने रचा फिर इतिहास! 19 सैटेलाइट के साथ अंतरिक्ष में भेजी भगवद्गीता और PM की फोटो

First train in bihars village

इसे भी पढ़े : अमेरिका ने भारत से लिया है 216 अरब डॉलर का कर्ज, प्रत्येक अमेरिकी पर इतना है ऋण

बता दें कि वर्ष 1934 में आए बड़े भूकंप के कारण छोटी लाइन की पटरी ध्वस्त हो गई थी और निर्मली-सरायगढ़ के बीच ट्रेन सेवा बंद हो गई थी। उसी समय से मिथिलांचल दो भागों में विभक्त है। 6 जून 2003 को तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने निर्मली महाविद्यालय से कोसी नदी पर महासेतु का शिलान्यास किया था।

निर्मली रेलवे स्टेशन रेल परिचालन को लेकर सज-धज कर तैयार है, हालांकि रेल परिचालन स्टेशन पर शुरू नहीं किया गया है। विभागीय अधिकारी रेल परिचालन को लेकर स्टेशन एवं रेलवे ट्रैक का बराबर निरीक्षण कर रहे हैं। यहां तक कि स्पीड ट्रायल भी किया गया है। निर्मली से पश्चिम घोघरडीहा होते हुए झंझारपुर रेलवे स्टेशन तक रेल सेवा बहाल करने के लिए जोर-शोर से निर्माण कार्य किया जा रहा है।

Mints of India an Indian E-Media Website. Here We Provide Latest Breaking News Related to Political News in Hindi with All Types of News.
x